Sunday, April 5, 2009

कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता है
की ये बदन ये निगाहें मेरी अमानत हैं
की तू मुझे चाहेगी उम्र भर यूँही 
उठेगी मेरी तरफ प्यार की नज़र यूँही
मैं जानता हूँ मैं गैर हूँ, मगर यूँही
कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता है.....


Post a Comment